Header Ads Widget

New Post

6/recent/ticker-posts
Telegram Join Whatsapp Channel Whatsapp Follow

आप डूुबलिकेट वेबसाइट से बचे दुनिया का एकमात्र वेबसाइट यही है Bharati Bhawan और ये आपको पैसे पेमेंट करने को कभी नहीं बोलते है क्योंकि यहाँ सब के सब सामग्री फ्री में उपलब्ध कराया जाता है धन्यवाद !

कक्षा 8 सुगम भूगोल अध्याय 1 संसाधन : लघु उत्तरीय प्रश्न : Class 8th Geography Chapter 1 Resources : Short Answer Questions : Sugam Bhugol

 

कक्षा 8 सुगम भूगोल अध्याय 1 संसाधन  लघु उत्तरीय प्रश्न  Class 8th Geography Chapter 1 Resources  Short Answer Questions  Sugam Bhugol

लघु उत्तरीय प्रश्न :

1. उत्पत्ति के आधार पर संसाधनों का वर्गीकरण करें |

उत्तर :- उत्पत्ति के आधार पर संसाधन दो प्रकार के होते है 

(i) जैव संसाधन :- जैव संसाधन में सभी सजीव शामिल है, जैसे- पेड़-पौधे, जीव-जंतु आदि | 

(ii) अजैव संसाधन :- अजैव संसाधन में सभी निर्जीव वस्तुएँ शामिल है, जैसे- चट्टान, खनिज, भवन, रेल, सड़क आदि | 

2. संभाव्य और विकसित संसाधनों में अंतर बताएँ | 

उत्तर :- संभाव्य संसाधन की कुल मात्रा का पता नहीं होता, परन्तु उसके होने की संभावनाएँ होती है| भविष्य में इनका उपयोग किया जा सकता है, जैसे- लद्दाख क्षेत्र का युरेनियम तथा केरल में मिलनेवाला थोरियम | जबकि विकसित संसाधन को ज्यात संसाधन भी कहा जाता हिया | इनका वर्तमान में उपयोग किया जाता है | सभी खनिज पदार्थ जिनका खनन किया जा रहा है, विकसित संसाधन है | मध्यप्रदेश में मिलनेवाला मैंगनीज, राजस्थान का ताँबा, झारखंड का अभ्रक सभी विकसित संसाधन है|  

3. मानवनिर्मित संसाधन को स्पष्ट करें | 

उत्तर :- उत्पादन, उपभोग और आर्थिक विकास के उद्देश्य से मानव जिस संसाधन का निर्माण करता है, उसे मानवनिर्मित संसाधन कहा जाता है, जैसे- भवन, कारखाना, रेलमार्ग, सड़क, औजार, कृषि-यंत्र, मशीन इत्यादि | 

4. सतत पोशनीय विकास किन बातों पर जोर देता है | 

उत्तर :- संसाधनों विशेषकर अनविकरणीय संसाधनों का उपयोग विवेकपूर्ण ढंग से किया जाना जरुरी है| संसाधनों के बिना कोई भी देश उन्नति नहीं कर सकता| इनके निरंतर उपलब्ध रहने पर ही समाज की निरंतर प्रगति संभव है| यदि हम मानवजनित के अस्तित्व को आगे भी बरकरार रखना चाहते है तो संसाधनों का संरक्षण आवश्यक है | संसाधनों का विवेकपूर्ण उपयोग एवं इनके नवीकरण के लिए पर्याप्त समय देना संसाधन संरक्षण कहलाता है | 

5. संसाधनों के असमान वितरण पर अपने विचार प्रस्तुत करें | 

उत्तर :- संसाधनों के असमान वितरण के कारण ही पृथ्वी पर प्राकृतिक संसाधनों के वितरण में भिन्नताएं मिलाती है| इन भिन्नताए में स्थलरुप, जलवायु, अक्षांश, समुद्र से दुरी एवं ऊंचाई जैसे कारक शामिल है| 

संसाधनों के वितरण की तरह इनके उपयोग में भी असमानताएँ है, क्योंकि विश्व के सभी भागों में मानव एक जैसा जीवन व्यतीत नही कर रहा है| तकनीकी ज्ञान में अंतर का होना इसका सबसे बड़ा कारण माना जाता है|  

6. संसाधन और मूल्य के बीच क्या संबंध है? स्पष्ट करें | 

उत्तर :- किसी भी संसाधन का मूल्य उसके रूप और गुण में परिवर्तन से बदल जाता है| जैसे, वन में पदों की लकड़ी का कोई आर्थिक मूल्य नहीं होता, परन्तु जब पेड़ की लकड़ी को काटकर फर्नीचर में बदला जाता है तब उसका आर्थिक मूल्य बढ़ जाता है ( क्योंकि उसके रूप और गुण दोनों में परिवर्तन आ जाता है ) | सभी संसाधनों का आर्थिक मूल्य नहीं होता | कुछ संसाधनों का आर्थिक मूल्य होता है तो कुछ का नहीं |

7. नवीकरणीय संसाधन को उदाहरण देकर स्पष्ट करें | 

उत्तर :- नवीकरणीय संसाधनों की उपलब्धता प्रकृति में हमेशा बनी रहती है| मानव के उपयोग से इनके कुल भण्डार पर कोई असर नहीं पड़ता, जैसे सूर्य की किरणे एवं पवन | मृदा और जल जैसे संसाधनों पर मानवीय गतिविधियों का प्रभाव पद सकता है | ऐसे संसाधनों के उपयोग के लिए पुन चक्रन विधि को अपनाना जरुरी है |  

8. प्राकृतिक संसाधनों के उपयोग में भिन्नता को उदाहरण के साथ समझाएँ | 

उत्तर :- प्रकृति में पाई जानेवाली सभी उपयोगी एवं लाभकारी चीजें प्र्काकृतिक संसाधन है, जैसे- भूमि, मृदा, जल, वायु, वनस्पति, जीव-जंतु, खनिज पदार्थ इत्यादि |

संसाधनों के असमान वितरण के कारण ही पृथ्वी पर प्राकृतिक संसाधनों के वितरण में भिन्नताएं मिलाती है| इन भिन्नताए में स्थलरुप, जलवायु, अक्षांश, समुद्र से दुरी एवं ऊंचाई जैसे कारक शामिल है| 

संसाधनों के वितरण की तरह इनके उपयोग में भी असमानताएँ है, क्योंकि विश्व के सभी भागों में मानव एक जैसा जीवन व्यतीत नही कर रहा है| तकनीकी ज्ञान में अंतर का होना इसका सबसे बड़ा कारण माना जाता है| 

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न  :- https://www.bharatibhawan.org/2021/03/8-1-class-8th-bharati-bhawan-geography.html

Post a Comment

0 Comments